फिर वही गलियाँ

फिर चले आए उन्ही गलियों में जहाँ से कभी रोज़ गुज़रते थे । वक़्त बहुत बीत चला, वो गलियाँ कुछ बदल सी गयी हैं । ना आने की क़सम ले कर चल पड़े थे यहाँ से ये क़दम । आज आँखों के कोनों से आँसू वहीं बिखरने को बेताब हैं । जाने क्या थी बात …

Continue reading फिर वही गलियाँ

Advertisements

Wo Chanchal pal

जानते थे उन पलों के भाग जाने की फ़ितरत थी , फिर भी पकड़ने की बहुत कोशिश करी हमने । हाथ तो आयीं कुछ यादें , पर वो समय फिर बाज़ी मार ही गया ।

मुझे नहीं पता प्यार क्या है

मुझे नहीं पता प्यार क्या है पर कभी-कभी कहीं-कहीं उस प्यार की झलक ज़रूर देखी है, वो दादी की कहानियों में, वो नानी के हाथ के बनाये आटे के लड्डुओं में, वो नाना की रोज़ दिलाई हुई टॉफ़ियों में, वो पापा के सर पर फिराए हाथ में, वो मम्मी की रोटियों में, वो मौसी की …

Continue reading मुझे नहीं पता प्यार क्या है