मुझे नहीं पता प्यार क्या है

मुझे नहीं पता प्यार क्या है पर कभी-कभी कहीं-कहीं उस प्यार की झलक ज़रूर देखी है, वो दादी की कहानियों में, वो नानी के हाथ के बनाये आटे के लड्डुओं में, वो नाना की रोज़ दिलाई हुई टॉफ़ियों में, वो पापा के सर पर फिराए हाथ में, वो मम्मी की रोटियों में, वो मौसी की... Continue Reading →

As Flawed as Ever

Accept your flaws, they make you unique. If the flaws can be diminished, of course make it work, but never ever feel ashamed of them. Because acceptance gives way to Change. A positive change.

ज़िंदगी – मिलने बिछड़ने का सफ़र

ज़िंदगी के इस हसीन सफ़र में मिलना और बिछड़ना तो लगा ही रहेगा । बस इतना इत्मिनान रहे कि मिले तो ख़ुशी से और बिछड़े तो फिर मिलने की उम्मीद से। हर रिश्ता  उम्र भर का होगा तो नहीं, पर इतना तो गुमान रहे कि कोशिश पूरी थी।

Be Thankful!

unsplash-logoNicole Honeywill Discomfort makes me want to move. Comfort makes me want to stay. Be thankful to every person who made you uncomfortable because they became the reason for you to move. They contributed in your progress more than anybody else.

धुँधली यादें

unsplash-logoDenny Müller समय की परतों में छुपी हुई धूल खा रही वो यादें कभी कभी यूँ ही सामने आ जाती हैं और ले आती हैं उन यादगार लम्हों का वो तूफान जो कभी हँसा जाता है तो कभी रुला जाता है ।

Humane enough?

Human Emotions are not the same as Karma!! unsplash-logoIcons8 team Karma says tit-for-tat. But can the same be said for emotions? Can love be for love?

Blog at WordPress.com.

Up ↑